Aligarh Loksabha: क्या है राजनैतिक इतिहास और किसका है कब्जा

Aligarh Loksabha: क्या है राजनैतिक इतिहास और किसका है कब्जा

Apr 26, 2024 - 07:51
Apr 26, 2024 - 08:36
 0  148
Aligarh Loksabha: क्या है राजनैतिक इतिहास और किसका है कब्जा
Aligarh Loksabha: क्या है राजनैतिक इतिहास और किसका है कब्जा
  • अलीगढ़ लोकसभा परिचय

    Aligarh Loksabha: उत्तर प्रदेश के 80 संसदीय क्षेत्रों में से अलीगढ़ संसदीय क्षेत्र पर इस समय भाजपा का कब्जा है। दिग्गज भाजपा नेता सतीश गौतम अलीगढ़ संसदीय क्षेत्र का लोकसभा में प्रतिनिधित्व करते हैं। उन्हें आरएसएस-बीजेपी के हिन्दू एजेंडे के प्रति समर्पित और मुखर सांसदों की श्रेणी में गिना जाता है। 2014 के आंकड़ों पर गौर करें तो इस सीट पर कुल 17,93,126 मतदाता हैं जिनमें से 9 लाख 65 हजार पुरुष और लगभग 8 लाख महिला हैं।

  • अलीगढ़ लोकसभा का इतिहास (Aligarh History)

    यह संसदीय क्षेत्र 1952 से ही अस्तित्व में है। जब यहां पहली बार आम चुनाव हुए थे तो इस सीट पर 1952 और 1957 में भारतीय कांग्रेस पार्टी के उम्मीदवार ने बड़े अंतर से जीत हासिल की थी। हालांकि उसके बाद 1967 और 19721 में भारतीय क्रांति दल तथा 1977 और 1980 जनता पार्टी व जनता पार्टी सेक्युलर यहां काबिज रही। 1984 में कांग्रेस यहां फिर जितने में कामयाब रही, लेकिन 1989 में जनता दल नेता सत्यपाल मलिक ने फिर से उसके सियासी पांव उखाड़ कर खुद यहां काबिज हो गए।

    यह संसदीय क्षेत्र इस मायने में भी महत्वपूर्ण है कि तेजतर्रार समाजवादी नेता सत्यपाल मलिक यहां का प्रतिनिधित्व कर चुके हैं। 2014 के लोकसभा चुनावों में भाजपा उम्मीदवार सतीश गौतम ने बहुजन समाज पार्टी के उम्मीदवार अरविंद कुमार सिंह को मात दी थी। 

    2008 में परिसीमन के बाद इस संसदीय सीट का स्वरूप बदल गया।


    अब 5 विधानसभा क्षेत्र इस लोकसभा सीट के अंतर्गत आते हैं। वह हैं- खैर, बरौली, अतरौली, कोल और अलीगढ़।


    खास बात यह है कि इन सभी 5 विधानसभा सीटों पर भारतीय जनता पार्टी का कब्जा है। जिससे महागठबंधन की राह यहां आसान नहीं है क्योंकि यूपी में भारतीय जनता पार्टी का ही शासन है।

    इस सीट के जातिगत समीकरणों की बात करें तो यहां जाट, मुस्लिम और लोध जाति के वोटरों का वर्चस्व है। यहां तीन लाख मुस्लिम, दो लाख जाट और लगभग दो लाख लोध वोटर्स हैं। राजपूत, ब्राह्मण और अन्य सवर्ण मतदाताओं की संख्या लगभग 3 लाख अधिक है। अन्य मतदाता दलित और सैनी-गुर्जर जैसी पिछड़ी जातियों से हैं। अगर चुनाव आयोग के 2014 के आंकड़ों पर गौर करें तो इस सीट पर कुल 17,93,126 मतदाता हैं जिनमें से 9 लाख 65 हजार पुरुष और लगभग 8 लाख महिला हैं।

    Aligarh Loksabha:  इस सीट पर मुख्यतः मुकाबला बीजेपी और समाजवादी पार्टी-बहुजन समाज पार्टी-रालोद के बीच ही होता है। कभी-कभी कांग्रेस इसे त्रिकोणात्मक संघर्ष में तब्दील कर देती है।

    इस लोकसभा क्षेत्र में 79 प्रतिशत आबादी हिंदू और 19 प्रतिशत जनसंख्या मुस्लिम है।

    Read Also: Etah Loksabha: जानें क्या है राजनैतिक इतिहास और किसका है कब्जा

  • कौन कब जीता चुनाव? (Aligarh MPs)

    वर्ष प्रमुख उम्मीदवार पार्टी
    1952

    चांद सिंघल

    नरदेव स्नातक

    भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस
    1957

    नरदेव स्नातक

    जमाल ख्वाजा

    1962 बुद्ध प्रिया मौर्य रिपब्लिकन पार्टी ऑफ इंडिया
    1967 शिव कुमार शास्त्री भारतीय क्रांति दल
    1971
    1977 नवाब सिंह चौहान जनता पार्टी
    1980 इंद्रा कुमारी जनता पार्टी
    1984 उषा रानी तोमर भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस
    1989 सत्यपाल मलिक जनता दल
    1991 शीला गौतम भारतीय जनता पार्टी
    1996
    1998
    1999
    2004 बिजेंद्र सिंह भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस
    2009 राज कुमारी चौहान बहुजन समाज पार्टी
    2014 सतीश कुमार गौतम भारतीय जनता पार्टी
    2019
  • सतीश कुमार गौतम राजनीतिक परिचय (Satish Kumar Gautam Wiki)

    क्षेत्र अलीगढ़
    पार्टी भारतीय जनता पार्टी
    पिता का नाम श्री दामोदर गौतम
    माता का नाम श्रीमती राम देवी गौतम
    जन्म 1 July 1972
    जन्म स्थान सरहा, जिला अलीगढ़ (उत्तर प्रदेश)
    पति का नाम श्रीमती मीनाक्षी गौतम
    बेटे 2
    शिक्षा मैट्रिक 

    राजनीतिक करियर

    • मई 2014 में 16वीं लोकसभा में चुने गए
    • मई 2019 में 17वीं लोकसभा में चुने गए
    • सितंबर 2014 से जुलाई 2015 तक: रासायनिक और उर्वरक समिति के सदस्य
    • सितंबर 2014 से 23 जुलाई 2015 तक: रासायनिक और उर्वरक समिति के सदस्य
    • रेल मंत्रालय के परामर्शी समिति के सदस्य
    • 23 जुलाई 2015 से उसके बाद: श्रम समिति के सदस्य

    Read Also: Lucknow Loksabha: जानें क्या है राजनैतिक इतिहास और किसका है कब्जा

What's Your Reaction?

like

dislike

love

funny

angry

sad

wow