Agra Loksabha: जानें क्या है राजनैतिक इतिहास और किसका है कब्जा

Agra Loksabha: जानें क्या है राजनैतिक इतिहास और किसका है कब्जा, इस समय भाजपा का कब्जा है। एस० पी० सिंह बघेल आगरा संसदीय क्षेत्र का लोकसभा में प्रतिनिधित्व करते हैं।

Apr 22, 2024 - 09:03
Apr 22, 2024 - 09:40
 0  128
Agra Loksabha: जानें क्या है राजनैतिक इतिहास और किसका है कब्जा
Agra Loksabha: जानें क्या है राजनैतिक इतिहास और किसका है कब्जा
Follow:

Agra Loksabha: उत्तर प्रदेश के 80 संसदीय क्षेत्रों में से आगरा (सुरक्षित) संसदीय क्षेत्र पर इस समय भाजपा का कब्जा है। एस० पी० सिंह बघेल आगरा संसदीय क्षेत्र का लोकसभा में प्रतिनिधित्व करते हैं। 2011 की जनगणना के आधार पर यदि देखें तो इस जनपद की आबादी लगभग 15 लाख 86 हजार है।

एस० पी० सिंह बघेल जीवन (Satyapal Singh Baghel Wiki)

पूरा नाम सत्य पाल सिंह बघेल
जन्म तिथि 21 जून, 1960
राजनीतिक दल भारतीय जनता पार्टी (भा.ज.पा.)
निर्वाचन क्षेत्र आगरा
पिछले दल समाजवादी पार्टी; बहुजन समाजवादी पार्टी (बीएसपी)
राजनीतिक पद 17वें लोकसभा के सदस्य; पूर्व में त्रिसंघी लोकसभा और एक बार राज्यसभा में चुने गए हैं
व्यक्तिगत पृष्ठ उत्तर प्रदेश के इटावा जिले के भाटपुरा, उमरी में जन्मे; धनगर (गदरिया) परिवार से हैं
परिवार पिता: रामभ्रोस सिंह; माता: रामश्री देवी; 30 नवंबर, 1989 को विवाहित; दो बच्चे
शिक्षा विधि में स्नातक; विज्ञान में स्नातक; डॉक्टरेट; महाराजा जीवाजी राव विश्वविद्यालय, ग्वालियर, मध्य प्रदेश; मेरठ विश्वविद्यालय, मेरठ, उत्तर प्रदेश
वर्तमान पद आगरा से लोकसभा के सदस्य, अनुसूचित जाति का प्रतिनिधित्व करते हुए

एसपी सिंह बघेल का जन्म 1960 में भटपुरा, उमरी, इटावा जिला, उत्तर प्रदेश में हुआ था। उनका जन्म धनगर (गड़रिया) परिवार में हुआ था। वर्तमान में वह आगरा से लोकसभा सदस्य हैं, जो अनुसूचित जाति के लिए आरक्षित है। उनके पिता रामभरोसे सिंह और माता रामश्री देवी थीं। बघेल की शादी 30 नवंबर 1989 को हुई और उनके दो बच्चे हैं। बघेल के पास कानून में स्नातक की डिग्री, विज्ञान में स्नातकोत्तर की डिग्री और डॉक्टरेट की डिग्री है। उन्होंने मध्य प्रदेश के ग्वालियर में महाराजा जीवाजी राव विश्वविद्यालय और उत्तर प्रदेश के मेरठ में मेरठ विश्वविद्यालय में पढ़ाई की।

SP Singh Baghel Career

साल पद पार्टी उम्मीदवार परिणाम
1998 विधायक समाजवादी पार्टी जलेसर सीट से विजयी
2014 सांसद भारतीय जनता पार्टी फिरोजाबाद सीट से हार
2017 विधायक भारतीय जनता पार्टी टूंडला सीट से विजयी
2019 सांसद भारतीय जनता पार्टी आगरा सीट से विजयी
2022 विधानसभा भारतीय जनता पार्टी करहल सीट पर हार

सत्यपाल सिंह बघेल, जो पहले यूपी पुलिस में सब इंस्पेक्टर थे, 1989 में मुलायम सिंह यादव के मुख्यमंत्री बनने के बाद उनकी सुरक्षा में शामिल रहे। उनकी निडरता, मेहनत और ईमानदारी ने मुलायम सिंह यादव का भी दिल जीत लिया और उन्हें समाजवादी पार्टी के उम्मीदवार के रूप में जलेसर से लोकसभा के लिए उतारा गया। 1998 में वे पहली बार विधायक बने और मुलायम सिंह सरकार में मंत्री भी रहे। पहले वे समाजवादी पार्टी के सदस्य थे और तीन बार लोकसभा चुनावों में और एक बार राज्यसभा चुनाव में उम्मीदवार रहे।

आगरा लोकसभा का इतिहास(Agra Loksabha History)

1952 से 1971 तक, इस संसदीय क्षेत्र में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के नेता अचल सिंह ने पांच लोकसभा चुनावों में जीत हासिल की, पर आपातकाल के बाद उनकी प्रतिष्ठा में गिरावट आई। 1977 में, भारतीय लोक दल के शम्भू नाथ चतुर्वेदी ने इस सीट पर कब्जा जमाया। फिर 1980 में, भारतीय लोकदल से निहाल सिंह ने यहां से जीत हासिल की, पर 1984 में कांग्रेस में शामिल हो गए। 1989 में, जनता दल के अजय सिंह ने कांग्रेस से इस सीट को अपने नाम किया।

1991, 1996, और 1998 में, बीजेपी ने यहां प्रत्येक बार जीत हासिल की, जिसमें तीन बार भगवान शंकर रावत ने लोकसभा पहुंचा। 1999 और 2004 में, समाजवादी पार्टी ने इस सीट पर कब्जा जमाया, जब राज बब्बर ने उनका प्रतिनिधित्व किया। फिर, 2009 में, बीजेपी के रामशंकर कठेरिया ने जीत हासिल की और 2014 में भी यहां से विजयी रहे।

2014 के लोकसभा चुनावों में बहुजन समाज पार्टी के उम्मीदवार नारायण सिंह सुमन यहां दूसरे नंबर पर रहे थे। जबकि सपा उम्मीदवार महाराज सिंह ढाँगा 1,34,708 वोट पाकर यहां तीसरे नंबर पर रहे थे।

इस सीट के राजनीतिक माहौल में फिल्मकार और नेता राज बब्बर का बड़ा महत्व है। 2014 में, भाजपा के दलित नेता रामशंकर कठेरिया ने बहुजन समाज पार्टी के उम्मीदवार को मात दी। 2019 के लोकसभा चुनाव में सपा और बसपा का गठबंधन था। इस गठबंधन को 38.01 फीसदी मत हासिल हुए थे।

Agra Loksabha: कौन कब जीता चुनाव?

वर्ष नेता/पार्टी
1952-71 अचल सिंह (कांग्रेस)
1977 शम्भू नाथ चतुर्वेदी (बीजेपी)
1980 निहाल सिंह (बीजेपी)
1989 अजय सिंह (जनता दल)
1991 भगवान शंकर रावत (बीजेपी)
1996 भगवान शंकर रावत (बीजेपी)
1998 भगवान शंकर रावत (बीजेपी)
1999 राज बब्बर (समाजवादी पार्टी)
2004 राज बब्बर (समाजवादी पार्टी)
2009 रामशंकर कठेरिया (बीजेपी)
2014 रामशंकर कठेरिया (बीजेपी)
2019 सत्यपाल सिंह बघेल (बीजेपी)

    Read Also: Etah Loksabha: जानें क्या है राजनैतिक इतिहास और किसका है कब्जा

    Farrukhabad Loksabha Seat: क्या है इतिहास और किसका है कब्जा

    What's Your Reaction?

    like

    dislike

    love

    funny

    angry

    sad

    wow