Lucknow Loksabha: जानें क्या है राजनैतिक इतिहास और किसका है कब्जा

Lucknow Loksabha एक हाई प्रोफाइल निर्वाचन क्षेत्र है, जहां से पूर्व  प्रधानमंत्री अटल बिहारी बाजपेयी 5 बार निर्वाचित हुए थे। उनसे पहले इस सीट पर पूर्व प्रधानमंत्रियों- जवाहरलाल नेहरू, इंदिरा गांधी और राजीव गांधी के रिश्तेदार भी कई दफे चुनाव लड़कर जीत चुके हैं।

Apr 24, 2024 - 10:25
Apr 24, 2024 - 10:46
 0  84
Lucknow Loksabha: जानें क्या है राजनैतिक इतिहास और किसका है कब्जा
Lucknow Loksabha: जानें क्या है राजनैतिक इतिहास और किसका है कब्जा
  • लखनऊ (Lucknow Loksabha Intro)

    Lucknow Loksabha:  उत्तरप्रदेश के 80 संसदीय क्षेत्रों में से एक लखनऊ संसदीय क्षेत्र पर इस समय भाजपा का कब्जा है। दिग्गज भाजपा नेता और केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह, लखनऊ संसदीय क्षेत्र का लोकसभा में प्रतिनिधित्व करते हैं। यह एक हाई प्रोफाइल निर्वाचन क्षेत्र है, जहां से पूर्व  प्रधानमंत्री अटल बिहारी बाजपेयी 5 बार निर्वाचित हुए थे। उनसे पहले इस सीट पर पूर्व प्रधानमंत्रियों- जवाहरलाल नेहरू, इंदिरा गांधी और राजीव गांधी के रिश्तेदार भी कई दफे चुनाव लड़कर जीत चुके हैं। उत्तरप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री हेमवती नन्दन बहुगुणा भी इस सीट से संसद पहुंच चुके हैं। एक अन्य पूर्व मुख्यमंत्री राजनाथ सिंह फिलवक्त यहां का प्रतिनिधित्व करते हुए चुनाव मैदान में हैं। चुनाव आयोग के 2014 के आंकड़ों पर गौर करें तो इस सीट पर कुल 19 लाख 49 हजार 596 मतदाता हैं जिनमें से 10 लाख से अधिक पुरुष और लगभग 9 लाख महिलाएं हैं। सन 1952 से ही यह संसदीय क्षेत्र अस्तित्व में है। 

  • लखनऊ लोकसभा का इतिहास(Lucknow Loksabha History)

    लखनऊ लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र उत्तर प्रदेश राज्य का एक लोकसभा (संसदीय) निर्वाचन क्षेत्र है जो उत्तर भारत के उत्तर प्रदेश राज्य में स्थित है। यह राज्य की सबसे बड़े और राजधानी शहर लखनऊ में स्थित दो लोकसभा क्षेत्रों में से एक है।

    1991 से यह सीट भारतीय जनता पार्टी के पास है। इसका सबसे प्रसिद्ध सांसद पूर्व प्रधानमंत्री, अटल बिहारी वाजपेयी है। वाजपेयी ने इस सीट से आठ बार चुनाव लड़े। पहली बार, उन्होंने 1955 की उपचुनाव में चुनाव लड़ा और तीसरे स्थान पर आए। फिर उन्होंने 1957 और 1962 में दूसरा आया। इन 3 हारों के बाद, उन्होंने सीट को पांच बार लगातार जीता, 1991, 1996, 1998, 1999 और 2004 में।

    इस सीट पर मुख्यतः मुकाबला पहले कांग्रेस बनाम समाजवादी दल, और अब भाजपा बनाम कांग्रेस के बीच ही होता आया है।

    इस सीट के जातिगत समीकरणों की बात करें तो यहां पर 77 प्रतिशत हिन्दू और 21 प्रतिशत मुस्लिम मतदाता हैं। यहां पर 9.61 प्रतिशत दलित और 0.02 प्रतिशत आदिवासी मतदाता हैं। हिंदुओं में ब्राह्मण और वैश्य वर्ग का यहां वर्चस्व है। यहां 10 प्रतिशत कायस्थ मतदाता हैं जिनमें 4 प्रतिशत सिंधी मतदाता भी शामिल हैं। मुस्लिम, ओबीसी और दलित वोटरों की गोलबंदी यहां कांग्रेस के पक्ष में होगी या सपा-बसपा गठबंधन के, यह यहां स्पष्ट नहीं है, लेकिन इनका कुछ बीजेपी को भी मिलेगा, यह तय है। अगर चुनाव आयोग के 2014 के आंकड़ों पर गौर करें तो इस सीट पर कुल 19 लाख 49 हजार 596 मतदाता हैं जिनमें से 10 लाख से अधिक पुरुष और लगभग 9 लाख महिलाएं हैं।

    उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ के मतदाताओं ने लोकसभा चुनाव में बड़े से बड़े दिग्गजों की चमक को फीका करने का काम किया है। बताया जाता है कि लखनऊ से चुनाव हारने वाले नेताओं के आगे की राजनीति ही खत्म हो जाती है। साल 2019 के लोकसभा चुनाव में देश के रक्षामंत्री राजनाथ सिंह के सामने सपा से अभिनेता शत्रुघ्न सिन्हा की पत्नी पूनम सिन्हा चुनाव मैदान में उतरी थीं। लेकिन पूनम सिन्हा को बीजेपी प्रत्याशी राजनाथ सिंह से 3,40,000 वोटों से करारी शिकस्त मिली थी।

  • राजनाथ सिंह जीवन (Rajnath Singh Overview Wiki)

    राजनाथ सिंह जीवन (Rajnath Singh Overview Wiki)
    Party Bharatiya Janata Party
    Father's Name Shri Rambadan Singh
    Mother's Name Smt. Gujarati Devi
    Date of Birth 10 Jul 1951
    Place of Birth Village Babhora, Tehasil Chakia, District Varanasi (now district Chandauli),Uttar Pradesh
    Spouse's Name Smt. Savitri Singh
    Children Two sons, One daughter
    Educational Qualifications M.Sc. (Physics) from Gorakhpur University, Uttar Pradesh
    Profession Worked as a lecturer of Physics at K.B. Post Graduate College Mirzapur, U.P.
    Present Address 17, Akbar Road, New Delhi - 110 011

     और पढ़े- Rajnath Singh : कौन है राजनाथ सिंह, क्या है राजनैतिक जीवन

  • Lucknow Loksabha Winner: कौन कब जीता चुनाव?

    1952 विजया लक्ष्मी पंडित भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस (Congress)
    1955^ श्योराजवती नेहरू
    1957 पुलिन बिहारी बैनर्जी
    1962 बी. के. धाओं
    1967 आनंद नारायण मुल्ला स्वतंत्र
    1971- शीला कौल भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस
    1977 हेमवती नंदन बहुगुणा जनता पार्टी
    1980/1984 शीला कौल भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस
    1989 मंधाता सिंह जनता दल

    1991, 1996,

    1998, 1999, 2004

    अटल बिहारी वाजपेयी भारतीय जनता पार्टी (BJP)
    2009 लाल जी टंडन
    2014, 2019 राजनाथ सिंह
    वर्ष सदस्य पार्टी

    Read Also: Agra Loksabha: जानें क्या है राजनैतिक इतिहास और किसका है कब्जा

    Mainpuri Loksabha: क्या है इतिहास और किसका है कब्जा, किसकी हुई जीत

What's Your Reaction?

like

dislike

love

funny

angry

sad

wow