UP रोडबेज की बस बाढ़ में फंसी 34 यात्रियों की जान जेसीबी से बचाई

Jul 22, 2023 - 16:03
 0  399
UP रोडबेज की बस बाढ़ में फंसी 34 यात्रियों की जान जेसीबी से बचाई
Follow:

रूपड़िया से नेपाल के लोगों को लेकर हरिद्वार आ रही बस में सवार 43 सवारियों की जान उस समय गले अटक गई, जब बस नदी के तेज बहाव में बीच में फंस गई।

सूचना मिलने पर मौके पर पहुंची उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड पुलिस की ओर से चलाए गए रेस्क्यू अभियान में जेसीबी में बैठाकर सवारियों को बाहर निकालकर उनकी जान बचाई गई। बाद में बस को भी क्रेन से बाहर किया गया। रेस्क्यू अभियान के बाद लोगों की जान बचने पर पुलिस और सवारियों ने राहत की सांस ली।

दरअसल, शनिवार को उत्तर प्रदेश परिवहन निगम के रूपड़िया डिपो की बस नेपाल के लोगों लेकर हरिद्वार आ रही थी। बस जब सुबह करीब दस बजे हरिद्वार-बिजनौर मार्ग पर उत्तर प्रदेश की सीमा चिड़ियापुर बॉर्डर पर भागूवाला कोटावाली नदी के रपटे पर पहुंची तो अचानक से पानी में तेज बहाव आ गया।

पानी तेज बहाव आने पर बस नदी में फंसने लगी। बस चालक ने उसे नदी से निकलाने का प्रयास किया, लेकिन ज्यादा बहाव होने से उसके पटलने के खतरे को देखते हुए उसने बस को बीच खड़ा कर दिया। उसने तुरंत मामले की सूचना पुलिस को दी। बस में बैठे यात्रियों को इसका पता चला तो उनमें हड़कंप मच गया। लोगों में किसी अनहोनी की घटना को देखते हुए चीख पुकार मच गई। सूचना मिलते ही उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड पुलिस मौके पर पहुंच गई।

जिसने यात्रियों को बचाने के लिए रेस्क्यू अभियान शुरू कर दिया। करीब ढाई घंटे की मशक्कत के बाद जेसीबी की मदद से बस में सवार लोगों को धीरे-धीरे कर नदी से बाहर निकाला लिया गया। यात्रियों को बाहर निकालने के बाद बस को भी क्रेन से नदी से बाहर खींच लाया गया। रेस्क्यू अभियान के बाद चालक-परिचालक समेत सभी यात्रियों को सकुशल बचा लिया गया। श्यामपुर थानाध्यक्ष विनोद थपलियाल का कहना है कि ढाई घंटे के रेस्क्यू अभियान में सभी यात्रियों को सुरक्षित बचा लिया गया है।

 उन्हें दूसरी बसों में बैठाकर हरिद्वार के लिए रवाना कर दिया गया। प्रदेशभर में आज शनिवार से अगले चार दिन तक भारी बारिश की रहेगी। मौसम विभाग ने सभी जिलों के लिए चार दिन तक बारिश का येलो अलर्ट जारी किया है। मौसम विज्ञान केंद्र के निदेशक बिक्रम सिंह ने बताया, 22 से 25 जुलाई तक गढ़वाल और कुमाऊं क्षेत्र के कुछ इलाकों में भारी बारिश हो सकती है। संवेदनशील इलाकों में भूस्खलन से सड़कें बंद हो सकती हैं।

हरिद्वार में भी सुबह से बारिश का सिलसिला जारी है। जिस कारण यहां कई जगहों पर जलभराव हो गया है। ऐसे में स्थानीय लोग डरे हुए हैं। वहीं दूसरी तरफ राजधानी देहरादून में झमाझम बारिश का सिलसिला जारी है। जिससे यहां कई जगह पर जलभराव की स्थिति पैदा हो गई है। उधर पहाड़ों पर बारिश आफत बनकर बरस रही है। पौड़ी और उत्तरकाशी में बादल फटने से भारी तबाही मची है। प्रदेशभर में कई सड़कें बंद होने से आवाजाही ठप हो गई है। खासतौर पर कई गांवों का संपर्क कट गया है।

What's Your Reaction?

like

dislike

love

funny

angry

sad

wow