बैसाखी के अवसर पर जलियांवाला बाग में अंग्रेजों की गोलियों से शहीद हुए सैकड़ों आंदोलनकारियों को दी श्रंद्धाजलि

Apr 14, 2024 - 19:48
 0  14
बैसाखी के अवसर पर  जलियांवाला बाग में अंग्रेजों की गोलियों से शहीद हुए सैकड़ों आंदोलनकारियों को दी श्रंद्धाजलि
Follow:

बैसाखी के अवसर पर जलियांवाला बाग में अंग्रेजों की गोलियों से शहीद हुए सैकड़ों आंदोलनकारियों की याद में शहीद सरदार भगत सिंह स्मारक समिति, के तत्वावधान में संजय प्लेस स्थित शहीद स्मारक पर परंपरागत श्रद्धांजलि DXसभा का आयोजन कर शहीदों का स्मरण कर श्रद्धा सुमन अर्पित किये गये।

शहीदों की शहादत को याद करते हुए ‘लोकतांत्रिक व्यवस्था ‘ को निरंतर मजबूत करते रहने के लिये संकल्प ले एकजुटता को मौजूदा दौर की सबसे बडी आवश्यकता माना गया। वक्ताओं ने कहा कि आजादी के संघर्ष की हर घटना अपने आप में आज भी प्रेरक है और शोषण के विरुद्ध उठ खड़े होने के लिए मार्गदर्शी है।

वक्ताओं ने कहा कि ब्रिटिश साम्राज्य के दमन का क्रूरतम उदाहरण इतिहास में जलियांवाला बाग सामूहिक नरसंहार 13 अप्रैल 1919 को हुआ जिसने भगत सिंह और उधम सिंह जैसे विचारक क्रांतिकारियों को हिंसा के लिए मजबूर किया। इसी दमन दिवस को भारतीय, ब्रिटिश सरकार के राज्य के पतन का कारण मानते हैं।

 कार्यक्रम की अध्यक्षता प्रसिद्ध इतिहासकार डॉ. आर. सी.शर्मा अध्यक्ष शहीद सरदार भगत सिंह स्मारक समिति ने कीऔर इसमें महत्वपूर्ण वक्ता युवा सामाजिक कार्यकर्ता असीम त्रिवेदी, फैज़ अली शाह आदि ने विचार व्यक्त करने वालों में शामिल थे। इस वर्ष यह कार्यक्रम शहर के युवाओं के सहयोग से दो दिन का रखा गया हैं।

अगले दिन 14अप्रैल का कार्यक्रम स्टालिन द्वारा निर्देशित फिल्म "इंडिया अनटच्ड" का के अंश का प्रदर्शन और हमारा संविधान और जाति व्यवस्था विषयक युवाओं के लिए "ओपन माइक" का भी आयोजन फ्री स्पीच फाउंडेशन के सहयोग से किया गया है। इस ओपन माइक में डॉ आनन्द राय ,असीम त्रिवेदी, नरेश पारस, इरम आत्मीय,गगन पाठक, मुदित, कलीम अहमद के अलावा शहर के अन्य युवा सामाजिक भी कार्यकर्ता भाग लेंगे और अपने विचार साझा करेंगे।

दो दिवसीय इस कार्यक्रम में विशेष डॉ पूनम जाकिर , आशीष मोहन "मकतूल" द्वारा कविता पाठ और अक्षिता सिंह वर्मा द्वारा कबीर गायन व कलीम अहमद द्वारा रबाब वादन भी हैं। कार्यक्रम का विवरण देते हुए श्री रामनाथ ,सचिव, शहीद सरदार भगत सिंह स्मारक समिति ने बताया कि इस कार्यक्रम के जरिए युवाओं में देश प्रेम और भाईचारे एवं बंधुता के मूल्य स्थापित करना ही समिति का उद्देश्य है।

इस कार्यक्रम का समन्वयन श्री अनिल शर्मा , सचिव सिविल सोसाइटी ऑफ आगरा द्वारा किया सत्र संयोजन डॉ विजय , आगरा, द्वारा किया गया।बैसाखी के अवसर पर जलियांवाला बाग में अंग्रेजों की गोलियों से शहीद हुए सैकड़ों आंदोलनकारियों की याद में शहीद सरदार भगत सिंह स्मारक समिति, के तत्वावधान में संजय प्लेस स्थित शहीद स्मारक पर परंपरागत श्रद्धांजलि सभा का आयोजन कर शहीदों का स्मरण कर श्रद्धा सुमन अर्पित किये गये।

शहीदों की शहादत को याद करते हुए ‘लोकतांत्रिक व्यवस्था ‘ को निरंतर मजबूत करते रहने के लिये संकल्प ले एकजुटता को मौजूदा दौर की सबसे बडी आवश्यकता माना गया। वक्ताओं ने कहा कि आजादी के संघर्ष की हर घटना अपने आप में आज भी प्रेरक है और शोषण के विरुद्ध उठ खड़े होने के लिए मार्गदर्शी है।

What's Your Reaction?

like

dislike

love

funny

angry

sad

wow