कई लड़कियों से सैक्स के बाद खुली फर्जी इंपेक्टर असलम की पोल

कई लड़कियों से सैक्स के बाद खुली फर्जी इंपेक्टर असलम की पोल

May 30, 2024 - 07:53
 0  686
कई लड़कियों से सैक्स के बाद खुली फर्जी इंपेक्टर असलम की पोल
कई लड़कियों से सैक्स के बाद खुली फर्जी इंपेक्टर असलम की पोल
Follow:

झारखंड में असलम नाम का एक शख्स फर्जी इंस्पेक्टर बन बैठा। वह नाम बदल-बदल कर कई शहरों में घूमता रहा। इस दौरान उसने न जाने कितनों को ठगी का शिकार बनाया। हैरानी की बात तो यह है कि वह इंस्पेक्टर की वर्दी में ही रहता था। पुलिस जांच में सामने आया कि असलम ने कई नाबालिग लड़कियों और महिलाओं के साथ रेप किया।

पुलिस के नाम पर डर कर ये लड़कियां सामने नहीं आईं। लेकिन हैवान की पोल एक दिन खुल गई। दरअसल, एक 16 साल की लड़की के साथ उसने कई बार दुष्कर्म किया। बाद में उससे शादी करने की बात कहने लगा। पीड़िता के माता-पिता तैयार हो गए। लेकिन शादी में कुछ ऐसा हुआ जिसके बाद आरोपी वहां से फरार हो गया। अब आरोपी असलम को कोर्ट ने 20 साल कैद की सजा सुनाई है।

पॉक्सो स्पेशल देवेश कुमार त्रिपाठी की कोर्ट ने मंगलवार को फर्जी इंस्पेक्टर बनकर 16 साल की नाबालिग से दुष्कर्म में दोषी संजय कसेरा उर्फ राज सोरेन उर्फ असलम खान उर्फ फिरोज उर्फ मोहम्मद खान को 20 वर्ष सश्रम कारावास की सजा सुनाई है। साथ ही मुजरिम पर 25 हजार रुपये का जुर्माना भी लगाया है। जुर्माना नहीं देने पर एक वर्ष की अतिरिक्त सजा काटनी होगी। सरकार की ओर से कोर्ट में अभियोजन का पक्ष रखने वाले विशेष लोक अभियोजक वीरेंद्र कुमार ने यह जानकारी दी। विशेष लोक अभियोजक ने बताया कि दोषी असलम धनबाद जिले के भूली का मूल निवासी है।

जो धर्म, नाम व पहचान बदलकर संजय कसेरा के नाम से चास में ठिकाना बनाए हुए था। लोगों को बैंक लोन दिलाने के नाम पर ठगी का शिकार बनाने में जुटा था। इसी कड़ी में हरला थाना क्षेत्र की 16 साल की पीड़िता के पिता से सेक्टर चार स्थित बैंक में संपर्क हुआ। असलम आर्थिक बदहाली को ढाल बनाते हुए घर तक पहुंच गया। जहां उसकी नजर 16 वर्षीय पीड़िता पर पड़ी। वह लगातार घर आना-जाना शुरू किया। घर आता तो इंस्पेक्टर की वर्दी में आता था। उसने पीड़िता के घर व आसपास मोहल्ले में खुद को इंस्पेक्टर के रूप में स्थापित किया।

इस क्रम में पीड़िता के साथ शारीरिक संबंध बनाया। आर्थिक बदहाली व पुलिस होने के भय के कारण परिजन भी खामोश हो गए। इस सिलसिले को आगे बढ़ाते हुए दोषी ने पीड़िता से शादी की साजिश रची। जिसके लिए पीड़िता के माता-पिता भी तैयार हो गए। शादी तय होने के बाद बाद सात दिसंबर 2022 को दोषी बारात लेकर शादी के मंडप में पहुंचा। इस बीच बारातियों के हाव-भाव से दोषी की कलई खुल गई। पता चला कि धर्म व नाम बदलकर फर्जी इंस्पेक्टर बना हुआ शादीशुदा दोषी कई बच्चों का पिता है।

तत्काल इसकी सूचना तत्कालीन सिटी डीएसपी कुलदीप कुमार को दी गई। सूचना मिलते ही सिटी डीएसपी, सब इंस्पेक्टर मिथुन मंडल के साथ मौके पर पहुंचे। जैसे ही पुलिस टीम शादी मंडप पहुंची, अफरातफरी मच गई। अफरा-तफरी का फायदा उठाकर बाराती व दोषी दूल्हा फरार हो गए। कई दिनों के मशक्कत के बाद दोषी को हरला पुलिस की टीम ने गिरफ्तार कर कोर्ट में प्रस्तुत कर न्यायिक हिरासत में जेल भेजा था। इससे पहले दोषी के खिलाफ पॉक्सो एक्ट के तहत दुष्कर्म की प्राथमिकी दर्ज कर अनुसंधान शुरू की गई थी।

पुलिस अनुसंधान में यह तथ्य सामने आए थे कि दोषी अलग-अलग शहरों में धर्म व नाम बदलकर लोगों को ठगी का शिकार बनाने के साथ कई नाबालिग लड़कियों व महिलाओं को कुकर्म का शिकार बना चुका था। अब आया है पुलिस के शिकंजे में।

What's Your Reaction?

like

dislike

love

funny

angry

sad

wow